यूपी भूलेख नक्शा कासे देखे? Check UP Bhulekh Naksha Khasra Khatauni 2021

आज हमारी पोस्ट में हम बात करेंगे यूपी भूलेख के बारे में और आपको बताएंगे up bhulekh से जुड़ी मूल बातों के बारे में।

Table of Contents

भूलेख क्या होता है? What is bhulekh?

  • भूलेख शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है यानी भूमि तथा लेख यानी लेखन या कागजी लिखावट भूमि से संबंधित कागजात।
  • भूलेख ओ को अलग-अलग जगहों पर कई नामों से बुलाया जाता है जैसे भू अभिलेख, भूकर अभिलेख, भूमि अभिलेख, जमीन के कागजात, खाता खातून, भूमि का ब्यौरा, जमीन का नक्शा, खेत के कागजात, पट्टा इत्यादि।
  • यह जानकारी राजस्व विभाग या भूमि संसाधन विभाग के पास सुरक्षित रहते हैं वर्तमान में इस पर यह सोच जताई जा रही है कि इन ब्यौरा का डिजिटलीकरण किया जाए जिससे भूमि से संबंधित ब्योरा की जानकारी ऑनलाइन पोर्टल में सुरक्षित रहे।

भूलेख क्यों आवश्यक होता है?

भूलेख में जमीनी विवरण के साथ तथा मालिकाना हक के साथ यह अन्य कार्यों जैसे योजनाओं बैंक लोन, बीमा सुविधा, फसल संबंधी कार्य आदि में भी उपयोग होता है।

किसानों के लिए खेती से जुड़ी योजनाएं जैसे  “प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना”, किसान क्रेडिट कार्ड इत्यादि में लाभ प्राप्त करने के लिए भी इन भूमि-रिकॉर्ड की कॉपी की आवश्यकता होती है।

UP Bhulekh भूमि विवरण अब ऑनलाइन उपलब्ध है

भारत सरकार की डिजिटल भारत मिशन के अनुसार केंद्र सरकार और राज्य सरकारें अब जमीन से संबंधित सभी जानकारियों को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर सुरक्षित रखेगी यानी अब सारी जानकारियां और भूमि से संबंधित विवरण ऑनलाइन देखा जा सकेगा।

इससे आप अपनी भूमि, खेत या अन्य प्रकार के भूलेख खाते की जानकारी ऑनलाइन देख व डाउनलोड कर सकते है।

ऑनलाइन उपलब्ध भूमि रिकॉर्ड की कॉपी में आपको भूमि धारक का नाम, क्षेत्रफल, खाता संख्या, भूमि वर्गीकरण, तहसील, गाँव, पट्टेदार का नाम सहित जमीन के बारे अन्य कई ब्योरे प्राप्त किये जा सकते है।

यूपी भूलेख क्या है? what is UP Bhulekh?

उत्तर प्रदेश के लोगों की भूमि से संबंधित जानकारी को कंप्यूटराइज किए जाने के लिए यूपी भूलेख पोर्टल का निर्माण किया गया है जिससे यूपी के लोग घर बैठे कंप्यूटर के जरिए अपना भूमि का विवरण देख सकेंगे।

यूपी भूलेख वेब पोर्टल के जरिए भूमि पर हो रही प्रतिदिन की गतिविधियों का लेख ऑनलाइन पोर्टल में दर्ज किया जाएगा।

किसान या भू मालिक अपनी जमीन की जानकारी को UP bhulekh पोर्टल पर देख सकेगा और उस भूमि पर अपना हक भी जमा सकेगा क्योंकि वह उस की भूमि है तब से जुड़ी सारी जानकारियां उस वेब पोर्टल UP Bhulekh में सही से दी गई होगी।

इस उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल की सुविधा से पहले राज्य के लोगों को अपनी भूमि कि जमाबंदी ,खसरा ,खतौनी ,भूमि का नक्शा तथा अन्य सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए परवरखाने जाना पड़ता था और बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था लेकिन अब राज्य के लोग घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल पर सरलता से ऑनलाइन देख सकते है।

यूपी भूलेख UP Bhulekh official website

उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपी भूलेख वेब पोर्टल का विकास तथा निर्माण उत्तर प्रदेश के भूमि-अभिलेखों (Land Records) को परिकलककृत (कंप्यूटराइज्ड) बहुत ही उपयोग-सुलभ (User-Friendly) इस प्रकार किया गया है कि भू-अभिलेखों के प्रतिदिन की गतिविधियों को सुव्यवस्थित किया जा सके ।

यूपी भूलेख पोर्टल खतौनी के पूरे जीवन चक्र को बनाए रखता है । UP Bhulekh डाटा एपीआई भू-अभिलेख डाटा का इंटरफ़ेस है जो अन्य एप्लीकेशन्स के साथ पारदर्शिता (ट्रैन्स्पेरेंसी) प्रदान करता है ।

भूलेख डाटा एपीआई के प्रयोग से आप (एण्ड-यूजर) भू-अभिलेख डाटा (Land Record Data), भू-अभिलेख के मालिक की जानकारी, भू-अभिलेख की जानकारी इत्यादि का आवश्यकतानुसार अवलोकन कर सकते हैं एवं सूचना प्राप्त कर सकते हैं ।

वेब आधारित भूमि प्रलेख प्रणाली 02 मई 2020 को प्रारम्भ की गई थी । आधारित भूमि प्रलेख (दस्तावेज़) प्रणाली को उत्तर प्रदेश की समस्त तहसीलों में कार्यान्वित है तथा उत्तर प्रदेश के वासी किसी भी समय यहां से अपने लिए वांछित सूचना प्राप्त कर सकते हैं।

खाता या खेवट नंबर क्या होता है?

खेवट नंबर को खाता नंबर भी कहा जाता है। यह जमीन के मालिक को प्रदान किया जाता है इसे हम जमीन के अकाउंट नंबर के रूप में भी देख सकते हैं।

यह किसी भी संपत्ति के सह मालिक के साथ हुए जमीन के भाग के अलग अलग हिस्सों को भी निर्धारित करता है, अतः इसीलिए इसे किसी भी संपत्ति के मालिकों को प्रदान किये गए खाता नम्बर के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

खसरा क्या होता है?

खसरा राजस्व विभाग का एक डॉक्यूमेंट होता है जिसका उपयोग भारत में किसी भी भूमि या फसल की जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है।

इसका उपयोग शजरा नामक दस्तावेज में होता है जो कि गांव का निर्धारित माप होता है उस जगह का क्षेत्रफल और भौगोलिक परिस्थितियों को भी निर्धारित करता है।

खसरा में मुख्य रूप से “सभी क्षेत्र और उनका एरिया, नाप, उसका ओनर (स्वामी) और किस किसान के द्वारा वहां खेती की जाती है, क्या फसल उगाई जाती है, किस तरह की मिटटी है, कौन से पेड़ उस क्षेत्र में लगे हैं, वहां की स्थिति और क्षेत्रफल से लेकर वहां के वातावरण आदि की सारी जानकारी खसरा में उपलब्ध होती है।

खतौनी क्या होता है?

खतौनी एक प्रकार का भूमि अभिलेख माना जा सकता है जो, जिसे एक क़ानूनी दस्तावेज माना जा सकता है, जिसमें किसी भी जमीन का विवरण होता है, यह पटवारी या काश्तकार के द्वारा बनाया जाता है, या उनके द्वारा रखा जाता है, इसमें किसी भी जमीन का विवरण, उसका क्षेत्र और अलग अलग मदों की अलग अलग खाते वाली बही होती है।

Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana (PMFBY) Online Status Check

यूपी वरासत अभियान

  • उत्तर प्रदेश द्वारा यूपी वरासत अभियान शुरू किया जा रहा है। इस अभियान के तहत उत्तराधिकारी को खतौनी में शामिल किया जाएगा। यह अभियान 15 दिसंबर 2020 से लेकर 15 फरवरी 2021 तक संचालित किया जाएगा।
  • यूपी वरासत अभियान के सफलतापूर्वक संचालन के लिए सरकार द्वारा एक हेल्पलाइन नंबर और ईमेल आईडी भी जारी की गई है।
  • इस अभियान के पूरे होने के बाद सरकार की तरफ से जिलों में टीमें भेजी जाएंगी जिसके माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाएगा कि कहीं निर्विवाद उत्तराधिकार का कोई प्रकरण खतौनी में दर्ज होने से रह तो नहीं गया है।
  • सरकार द्वारा यूपी वरासत अभियान के तहत 0522-2620477 हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया हैं तथा सीएम हेल्पलाइन नंबर 1076 के द्वारा भी जानकारी प्राप्त की जा सकती है। इसके अलावा आप ईमेल के माध्यम से सभी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। ईमेल आईडी [email protected] है।

यूपी वरासत अभियान प्रक्रिया

1.राजस्व/तहसील अधिकारियों द्वारा प्रार्थना पत्र आवंटन की प्रक्रिया 15 दिसंबर 2020 से शुरू हो जाएगी तथा इसे ऑनलाइन दर्ज कराने की अंतिम तिथि 30 दिसंबर 2020 है।

2. लेखपालों द्वारा ऑनलाइन जांच 31 दिसंबर 2020 से लेकर 15 जनवरी 2021 तक सुनिश्चित की गई है।

3. राजस्व निरीक्षक द्वारा जांच का आदेश 16 जनवरी 2021 से लेकर 31 जनवरी 2021 तक पारित किया जाएगा।

4. यूपी में उत्तराधिकारी निर्विवाद से संबंधित कोई भी जानकारी दर्ज के लिए रह ना गई हो इसलिए यह कार्य 1 फरवरी से 7 फरवरी तक देखा जाएगा।

5. जिला अधिकारियों या यूपी अफसरों द्वारा उत्तराधिकारी के निर्विवाद समस्त लंबित प्रकरण  8 फरवरी 2021 से 15 फरवरी 2021 के मध्य खत्म कर दिया जाएगा।

यूपी भूलेख का डिजिटलीकरण (Digitalization of UP Bhulekh)

सरकार द्वारा डिजिटलीकरण की प्रक्रिया यानी सभी चीजों को इंटरनेट के माध्यम से कंप्यूटर के द्वारा देखने की प्रक्रिया को बढ़ावा अधिक दिया जा रहा है।

इसी के तहत उत्तर प्रदेश सरकार ने up bhulekh पोर्टल का आरंभ किया है जिसके तहत यूपी में भूमि से जुड़े सभी गतिविधियों को ऑनलाइन दर्ज करने का फैसला किया है।

यूपी भूलेख पोर्टल का आरंभ 2 मई 2016 से शुरू किया गया था तथा इस सुविधा को उत्तर प्रदेश की सभी तहसीलों में लागू भी करवा दिया गया था। इस पोर्टल पर भू अभिलेख डाटा, भू अभिलेख के मालिक की जानकारी, भू अभिलेख की जानकारी आदि देखी जा सकती है।

इस पोर्टल के माध्यम से प्रणाली में पारदर्शिता भी आएगी तथा समय और पैसे दोनों की बचत होगी।

यूपी भूलेख का उद्देश्य

UP Bhulekh का उद्देश्य यह है कि भूमि से संबंधित जानकारी को ऑनलाइन दर्ज किया जा सके जिससे इसमें पारदर्शिता भी आए यानी इससे भूमि संबंधित जो भी फर्जीवाड़े होते थे वह समाप्त हो जाएंगे।

राज्य सरकार द्वारा UP Bhulekh वेब पोर्टल का आरंभ करने का उद्देश्य यह है कि भू मालिक अपनी भूमि की जानकारी का पूरा विवरण अपने घर में कंप्यूटर के माध्यम से इंटरनेट पर आसानी से देख सके।

यूपी भूलेख पोर्टल के लाभ (Benefits of UP Bhulekh Portal)

1.यूपी भूलेख पोर्टल के तहत राज्य के लोग अपना खसरा नंबर और जमींदारी नंबर डालकर अपनी भूमि का नक्शा देख सकेंगे।

2. UP Bhulekh द्वारा राज्य के लोग अपनी भूमि का पूरा विवरण इंटरनेट के माध्यम से अपने कंप्यूटर पर ऑनलाइन देख सकेंगे।

3. यूप भूलेख portal से पहले लोगों को अपनी भूमि से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए राजस्व विभाग या जिला विभाग में जाना पड़ता था परंतु अब इस सुविधा के बाद उनकी समय की बचत होती है।

4. UP Bhulekh portal की सहायता से ही भूमि से संबंधित अपनी जानकारी देख पाएंगे और उन्हें जिला विभाग जाने की जरूरत नहीं होगी।

यूपी भूलेख (UP Bhulekh) जमाबंदी नकल खसरा खतौनी कैसे देखे ?

जो भी भू मालिक अपनी भूमि से जुड़ी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं वह नीचे दिए गए तरीकों को फॉलो करें और अपनी जमीन संबंधित जानकारी को देखें।

1.सर्वप्रथम वह मालिक को यूपी भूलेख की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा इस साइट पर जाने के बाद आपके सामने यूपी भूलेख की सभी सुविधाओं की सूची आ जाएगी।

2. इसके बाद एक कैप्चा कोड भरने को आपसे कहा जाएगा कैप्चा कोड पेज पर ही आगे पीछे या ऊपर नीचे होगा उसे भर दे और सबमिट के बटन पर क्लिक कर दें।

3. फिर आपके सामने नया पेज खुल जायेगा इस पेज पर आपको अपने जिला ,तहसील ,ग्राम ,खसरा /खतौनी नंबर या सर्वे नंबर या पट्टे की जानकारी देनी या चुननी होगी।

4. इसके बाद सबसे पहले अपने जनपद को चुने, फिर तहसील और गांव का चुनाव करें। अब जमीन से संबंधित जानकारियां दे। यह जानकारी आप खसरा /गाटा संख्या द्वारा खोजे ,खाता संख्या द्वारा खोजे ,खातेदार के नाम द्वारा खोजे या नामांतरण द्वारा खोजे के रूप में दे सकते हैं।

5. अब उचित टाइप का चुनाव करें और आवश्यक जानकारियों का विवरण दर्ज करें।

6. इसके बाद दिए गए बॉक्स पर क्लिक करें और अब आपके सामने आपकी जमीन से संबंधित सभी जानकारी यूपी भूलेख पोर्टल पर आ जाएगी।

UP Bhulekh भू नक्शा ऑनलाइन कैसे देखें

सर्वप्रथम आपको यूपी भूलेख भू नक्शा के आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करना होगा । जब आप भू नक्शा के आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करेंगे तो आपके स्क्रीन पर एक होमपेज खुल जाएगा।

2. इसके बाद आपको उस पेज पर तहसील, जिला, गांव इत्यादि का चुनाव करना पड़ेगा । जब आप इन सभी चीजों का चयन कर लेंगे तो आपके स्क्रीन पर चयन किए गए क्षेत्र से जुड़े नक्शा Show होने लगेगा ।

3. अब आप जमीन मालिक का नाम जानना चाहते है तो आपको फॉर्म संख्या पर क्लिक करना पड़ेगा । जब आप फॉर्म संख्या पर क्लिक करेंगे तो आपको खाता नंबर दिखाई देगा । अब आपको इसमें खातेदार का नाम चयन करना होगा, जिसका आप डिटेल्स देखना चाहते है ।

4. इसके बाद आप स्क्रीन पर दिए गए नक्शे को प्रिंट कर सकते है ।

5. अगर आप भी UP Bhulekh भू नक्शा ऑनलाइन माध्यम से डाउनलोड करना चाहते है तो आपको इन सभी स्टेप्स का पालन करना होगा ।

यूपी भूलेख भू नक्शा डाउनलोड करने के चरण

1. सबसे पहले आपको यूपी भूलेख के Official वेबसाइट पर विजिट करना होगा, उसके बाद homepage खुल जाएगा ।

2. इस पेज पर आपको अपने जिले के नाम चुनाव करना होगा ।

3. जब आप जिले के नाम चुनाव कर लेंगे तो आपको इसके बाद तहसील का चुनाव करना होगा ।

4. इसके बाद आपको अपने Village का चुनाव करना होगा ।

5. इसके अलावा आपको नक्शा में खुद के प्लॉट, खसरा संख्या पर क्लिक करना पड़ेगा ।

6. जैसे ही आप खसरा संख्या पर क्लिक करेंगे तो आपके स्क्रीन पर भू नक्शा दिखाई देने लगेगा ।

7. अगर आप चाहें तो इस नक्शे को download कर सकते है ।

उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के ग्राम वार यूपी भूलेख भु नक्ष की जाँच करें

District Wise List For Bhu Naksha UPClick here to Search
AgraClick here
AligarhClick here
Allahabad (Prayagraj)Click here
Ambedkar NagarClick here
Amethi (Chatrapati Sahuji Mahraj Nagar)Click here
Amroha (J.P. Nagar)Click here
AurayaClick here
AzamgarhClick here
BaghpatClick here
BahraichClick here
BalliaClick here
BalrampurClick here
BandaClick here
BarabankiClick here
BareillyClick here
BastiClick here
Bhadohi (Srdnagar)Click here
BijnorClick here
BadaunClick here
BulandshahrClick here
ChandauliClick here
ChitrakootClick here
DeoriaClick here
EtahClick here
EtawahClick here
Faizabad (Ayodhya)Click here
FarrukhabadClick here
FatehpurClick here
FirozabadClick here
Gautam Buddha NagarClick here
GhaziabadClick here
GhazipurClick here
GondaClick here
GorakhpurClick here
HamirpurClick here
Hapur (Panchsheel Nagar)Click here
HardoiClick here
HathrasClick here
JalaunClick here
JaunpurClick here
JhansiClick here
KannaujClick here
Kanpur DehatClick here
Kanpur NagarClick here
Kanshiram Nagar (Kasganj)Click here
KaushambiClick here
Kushinagar (Padrauna)Click here
Lakhimpur – KheriClick here
LalitpurClick here
LucknowClick here
MaharajganjClick here
MahobaClick here
MainpuriClick here
MathuraClick here
MauClick here
MeerutClick here
MirzapurClick here
MoradabadClick here
MuzaffarnagarClick here
PilibhitClick here
PratapgarhClick here
RaeBareliClick here
RampurClick here
SaharanpurClick here
Sambhal (Bhim Nagar)Click here
Sant Kabir NagarClick here
ShahjahanpurClick here
Shamali (Prabuddh Nagar)Click here
ShravastiClick here
Siddharth NagarClick here
SitapurClick here
SonbhadraClick here
SultanpurClick here
UnnaoClick here
VaranasiClick here

राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जानने की प्रक्रिया

1. सबसे पहले आपको यूपी भूलेख के Official वेबसाइट पर विजिट करना होगा । जिसके बाद आपके स्क्रीन पर home Page Open होगा ।

2. अब आपको राजस्व ग्राम खतौनी के टैब पर क्लिक करना पड़ेगा ।

3. इसके बाद आपको जिले, तहसील, ग्राम इत्यादि का चुनाव करना पड़ेगा ।

4. जब आप इन सभी चीजों का चुनाव कर लेंगे तो आपके स्क्रीन पर राजस्व ग्राम खतौनी का कोड दिखाई देगा ।

भूखंड/ गाटे का यूनिक कोड जानने के चरण

सबसे पहले आपको यूपी भूलेख के Official portal पर जाने की आवश्यकता होगी ।

2. इसके बाद Home Page खुलेगा ।

3. इस पेज पर आपको भूखंड के यूनिक कोड टैब पर क्लिक करना पड़ेगा ।

4. इसके बाद आप जहां रहते है, जिला, तहसील, विलेज, इतायदी का चुनाव करना होगा ।

5. जब आप एड्रेस का चुनाव कर लेंगे तो आपके स्क्रीन पर भूखंड का यूनिक कोड प्राप्त हो जाएगा ।

भूखंड के बाद ग्रस्त होने की स्थिति जानने कि विधि ?

1. सबसे पहले आपको यूपी भूलेख वेबसाइट पर जाना पड़ेगा । जैसे ही आप यूपी राजस्व परिषद के Official वेबसाइट पर जाएंगे तो आपके स्क्रीन पर एक Page खुलेगा ।

2. इस पेज पर आपको भूखंड के बाद ग्रस्त होने की स्थिति के टैब पर क्लिक करना पड़ेगा ।

3. इसके बाद आपको खुद के जिला का नाम, तहसील का नाम, ग्राम का नाम इत्यादि का चुनाव करना पड़ेगा।

4. जब आप एड्रेस का चुनाव कर लेंगे तो आपके स्क्रीन पर भूखंड के बाद ग्रस्त होने की स्थिति की पूरी जानकारी प्राप्त हो जाएगी ।

भूखंड के विक्रय कि स्थिति जानने कि विधि क्या है ?

1. सबसे पहले आपको यूपी भूलेख वेबसाइट पर विजिट करना पड़ेगा । जिसके बदले आपके स्क्रीन पर एक पेज खुलेगा ।

2. इस पेज पर आपको भूखंड के विक्रय की स्थिति के टैब पर क्लिक करना पड़ेगा ।

3. इसके बाद आपको खुद के जिला का नाम, तहसील का नाम, विलेज का नाम इत्यादि चुनाव करना होगा ।

4. जब आप विलेज इत्यादि के नाम चुनाव कर लेते है तो अब आपके स्क्रीन पर भूखंड के विक्रय की स्थिति प्राप्त हो जाएगी ।

खतौनी अंश निर्धारण की नकल दिखाने के चरण

1. सबसे पहले यूपी भूलेख Official portal पर विजिट करना पड़ेगा । जिसके बाद एक Page खुलेगा ।

2. इसके बाद इस पेज पर आपको खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखने के टैब पर क्लिक करना पड़ेगा ।

3. क्लिक करने के बाद आपके स्क्रीन पर New पेज खुलेगा, जिसमें आपको अपने जिला का चुनाव करना होगा ।

4. जब आप जिला का चुनाव कर लेंगे तो आपको इसके बाद तहसील का चुनाव करना पड़ेगा ।

5. जब आप तहसील का चुनाव कर लेंगे तो आपको अपने Village का चुनाव करना होगा ।

6. इन सभी चीजों का चुनाव कर लेंगे तो आपके स्क्रीन पर एक new पेज खुलेगा । जिसमें खुद का खसरा नंबर डालना होगा ।

7. जब आप सभी details सही तरह से डाल लेंगे तो आपको Search बटन पर क्लिक करना पड़ेगा ।

यूपी भूलेख एप डाउनलोड करने की प्रक्रिया (Download UP Bhulekh App)

1. सबसे पहले आपको अपने फोन में प्ले स्टोर open करना होगा, जिसके बाद आपको सर्च बार में UP Bhulekh टाइप करना होगा ।

2. जब आप UP Bhulekh टाइप कर लेंगे तो आपको इसके बाद सर्च button पर क्लिक करना पड़ेगा ।

3. जैसे ही आप सर्च करेंगे तो आपके सामने कई सारे ऐप्स की लिस्ट Open होगी ।

4. आपको लिस्ट में दिए गए ऐप्स में से सबसे पहले स्थान के ऐप पर क्लिक करना पड़ेगा ।

5. इसके बाद आपको Install के बटन पर क्लिक करना पड़ेगा ।

6. ऐसा करने से आपके मोबाइल फोन में UP Bhulekh का ऐप सफलतापूर्वक डाउनलोड हो जाएगा।

यूपी भूलेख शिकायत पंजीकरण करने के चरण

1. सबसे पहले आपको UP Bhulekh के Official वेबसाइट पर visit करना पड़ेगा । जिसके बाद एक New पेज खुलेगा ।

2. Home Page पर आप शिकायत पंजीकरण के टैब पर क्लिक करें ।

3. इसके बाद आपके स्क्रीन पर New Page Open होगा । जिसमें आपको आवश्यक डिटेल्स भरने होंगे ।

4. जब आप आवश्यक डिटेल्स सही – सही भर लेंगे तो आपको इसके बाद सबमिट Button पर क्लिक करना पड़ेगा ।

5. इस तरह से आप शिकायत पंजीयन कर पाएंगे ।

UP Bhulekh शिकायत की स्थिति जानने की प्रक्रिया क्या है ?

1. सर्वप्रथम आपको UP Bhulekh के Official वेबसाइट पर जाना पड़ेगा । जिसके बाद एक Page Open होगा ।

2. इस पेज पर आपको शिकायत के स्टेटस जांच करने के टैब पर क्लिक करना पड़ेगा ।

3. जब आप क्लिक करेंगे तो फिर से एक page ओपन होगा । जिसमें आपको Reference के तौर पर एक मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड करना पड़ेगा ।

4. जब आप नंबर रजिस्टर्ड कर लेंगे तो आपको सर्च के Button पर क्लिक करना पड़ेगा ।

5. इसके बाद आपके स्क्रीन पर शिकायत की स्थिति दिखाई देने लगेगी ।

दैनिक वाद तालिका की जांच कैसे की जाती है ?

1. सर्वप्रथम आपको UP Bhulekh के official वेबसाइट पर जाना पड़ेगा । इसके बाद एक पेज खुलेगा ।

2. इसके बाद आपको पेज पर वाद लिस्ट का सेक्शन दिखाई देगा, और आपको उस सेक्शन से होकर दैनिक वाद के तालिका के Option पर क्लिक करना पड़ेगा । इसके बाद आपके स्क्रीन पर एक Form Open हो जाएगा ।

3. इसके बाद आपको इस Form में पूछे गए डिटेल जैसे :- तहसील, न्यायलय, जनपद, सुनवाई की तारीख, इत्यादि डालना पड़ेगा ।

4. जब आप महत्वपूर्ण डिटेल्स फॉर्म में भर लेंगे तो आपको इसके बाद Submit Button पर क्लिक करना पड़ेगा ।

5. अगर आप इन सभी प्रक्रिया को अपनाते तो आपके स्क्रीन पर दैनिक वाद तालिका की डिटेल प्राप्त हो जाएगी ।

वाद दायर सुनवाई तिथि कैसे जाने ?

1. सर्वप्रथम आपको UP Bhulekh वेबसाइट पर विजिट करना होगा । इसके बाद Official वेबसाइट का पेज ओपन हो जाएगा ।

2. इसके बाद आपको इस पेज पर सुनवाई तिथि के ऑप्शन पर क्लिक करना पड़ेगा । जैसे ही आप सुनवाई तिथि पर क्लिक करेंगे तो आपके स्क्रीन पर एक Form Open होगा ।

3. अब आपको form में मांगे गए डिटेल जैसे :- जनपद, तहसील, न्यायालय, सुनवाई तिथि इत्यादि सही – सही जानकारी भर लें ।

4. जब आप सही तरह से details को भर लेंगे तो आप नीचे दिए गए Submit Button पर क्लिक कर दें।

5. अब आपके स्क्रीन पर वाद दायर की सुनवाई तिथि दिखाई देने लगेगी ।

यूपी भूलेख संपर्क सूत्र

  • UP Bhulekh संबंधित ज्यादा जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे गया गए संपर्क सूत्रों पर गौर करें
  • Computer Cell Board Of Revenue Lucknow, Uttar Pradesh
  • Email Id [email protected]
  • Phone Number: 0522-2217145

यूपी भूलेख का निष्कर्ष

उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी पोस्ट यूपी भूलेख में इस अवसर सुविधा से संबंधित सारी जानकारियां प्राप्त हो गई होंगी इस सुविधा को अपना लाभ हेतु प्रयोग करें और घर बैठे हैं अपनी भूमि का विवरण अपने कंप्यूटर में आराम से देखें यूपी की यूपी भूलेख पोर्टल की सहायता से समय की बचत भी होगी और का विवरण हासिल करने में आसानी भी।

क्योंकि यूपी भूलेख पोर्टल सर्विस केवल उत्तर प्रदेश के निवासी के लिए है । अगर आप भी UP Bhulekh Portal सर्विस का लाभ लेना चाहते है तो आप इस लेख को पूरा पढ़े । अगर आपको इस लेख से संबंधित कुछ प्रश्न पूछना हो तो आप कमेंट करके पूछ सकते है ।

यदि आपको हमारी पोस्ट पसंद आई हो तो इसे लाइक और शेयर जरूर करें।

FAQs

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल क्या है?

यूपी भूलेख उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अपने भूमि से जुड़े सभी जानकारी घर पर रहकर प्राप्त कर सकते है ।

खाता विवरण ऑनलाइन डाउनलोड कैसे करें?

कोई भी इच्छुक व्यक्ति या भू मालिक यूपी भूलेख की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर खसरा खतौनी नंबर डालकर अपनी खाता विवरण की प्रति डाउनलोड कर सकता है।

UP Bhulekh सर्विस का उपयोग कैसे करते है ?

अगर आप चाहें तो यूपी भूलेख सर्विस का उपयोग ऑनलाइन के माध्यम से कर सकते है । क्योंकि, ये सर्विस ऑनलाइन प्रदान करने के लिए ही बनाई गई है, ताकि, लोगों को ब्लॉक इत्यादि जैसे स्थान पर परेशानियों का सामना ना करना पड़े ।

खसरा खतौनी से नाम कैसे निकाल सकते है ?

अगर आप खसरा खतौनी से नाम निकालना चाहते है तो आप इस लेख के ऊपर खसरा खतौनी से नाम निकालने की प्रक्रिया के बारे में जान सकते है । क्योंकि, हम इस लेख के ऊपर खसरा खतौनी से नाम निकालने की हर एक प्रक्रिया को बताया है ।

इस सुविधा को कौन-कौन प्राप्त कर सकता है?

उत्तर प्रदेश के सभी जिले के लोग अपने खसरा खतौनी के आधार पर यूपी भूलेख की ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर अपनी जमीन से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a comment